Gehlot Said Sachin Pilot Should Take Responsibility For His Son Vaibhav Defeat From Jodhpur Seat – अशोक गहलोत ने सचिन पायलट पर फोड़ा बेटे की हार का ठीकरा, कहा- जिम्मेदारी लें

0
23
Difference In Rajasthan Congress Emerging As Two Ministers Target Cm Ashok Gehlot - कांग्रेस में हार पर रार: निशाने पर गहलोत, मंत्री का इस्तीफा वायरल


न्यूज डेस्क, अमर उजाला, जयपुर
Updated Tue, 04 Jun 2019 08:46 AM IST

अशोक गहलोत (फाइल फोटो)
– फोटो : Facebook

ख़बर सुनें

राजस्थान में कांग्रेस को मिली करारी शिकस्त के बाद राज्य में अंतर्कलह बढ़ती ही जा रही है। सोमवार को पार्टी की अंदरुनी लड़ाई को बढ़ाते हुए राज्य के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा कि प्रदेश कांग्रेस कमिटी के मुखिया और राज्य के उप मुख्यमंत्री सचिन पायलट उनके बेटे की हार की जिम्मेदारी लें। वैभव गहलोत जोधपुर लोकसभा सीट से हार गए थे। उन्हें भाजपा के गजेंद्र सिंह शेखावत ने 2.74 लाख वोटों से हराया था। इसी लोकसभा के अंतर्गत सरदारपुरा विधानसभा सीट आती है जहां से गहलोट विधायक हैं। 

पायलट ने गहलोत के बयान पर हैरानी जताई है लेकिन कुछ भी कहने से इनकार कर दिया। एबीपी न्यूज को दिए इंटरव्यू में जब उनसे पूछा गया था कि क्या यह सच है कि पायलट ने जोधपुर सीट से वैभव का नाम प्रस्तावित किया था। इसके जवाब में गहलोत ने कहा, ‘यह अच्छी बात है कि अगर उन्होंने (पायलट) ऐसा किया। मीडिया हम दोनों के बीच मतभेद दिखाती है। पायलट साब ने कहा था कि वह जोधपुर से बहुत बड़े अंतर से जीतेगा क्योंकि हमारे छह विधायकों को इस लोकसभा सीट से जीत हासिल हुई थी। हमारा चुनाव प्रचार भी बढ़िया था। इसलिए मुझे लगता है कि उन्हें इस सीट की जिम्मेदारी लेनी चाहिए। यह पता लगाया जाना चाहिए कि हम यहां क्यों हारे।’

जब गहलोत से पूछा गया कि क्या उन्हें सच में लगता है कि जोधपुर में मिली हार के लिए पायलट जिम्मेदार हैं तो उन्होंने कहा, ‘पायलट ने कहा था कि हम जोधपुर जीतने वाले हैं और उन्होंने वैभव के लिए पार्टी का टिकट लिया। लेकिन हम सभी 25 सीटें हार गए। यदि कोई कहता है कि मुख्यमंत्री और प्रदेश कांग्रेस कमिटी को जिम्मेदारी लेना चाहिए तो मुझे लगता है कि यह सामूहिक जिम्मेदारी है।’ गहलोत का यह बयान ऐसे समय पर आया है जब कुछ दिनों पहले ही पायलट के समर्थकों ने कहा था कि मुख्यमंत्री के काम करने के रवैये के कारण हमें राज्य में हार मिली है।

राजस्थान में कांग्रेस को मिली करारी शिकस्त के बाद राज्य में अंतर्कलह बढ़ती ही जा रही है। सोमवार को पार्टी की अंदरुनी लड़ाई को बढ़ाते हुए राज्य के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा कि प्रदेश कांग्रेस कमिटी के मुखिया और राज्य के उप मुख्यमंत्री सचिन पायलट उनके बेटे की हार की जिम्मेदारी लें। वैभव गहलोत जोधपुर लोकसभा सीट से हार गए थे। उन्हें भाजपा के गजेंद्र सिंह शेखावत ने 2.74 लाख वोटों से हराया था। इसी लोकसभा के अंतर्गत सरदारपुरा विधानसभा सीट आती है जहां से गहलोट विधायक हैं। 

पायलट ने गहलोत के बयान पर हैरानी जताई है लेकिन कुछ भी कहने से इनकार कर दिया। एबीपी न्यूज को दिए इंटरव्यू में जब उनसे पूछा गया था कि क्या यह सच है कि पायलट ने जोधपुर सीट से वैभव का नाम प्रस्तावित किया था। इसके जवाब में गहलोत ने कहा, ‘यह अच्छी बात है कि अगर उन्होंने (पायलट) ऐसा किया। मीडिया हम दोनों के बीच मतभेद दिखाती है। पायलट साब ने कहा था कि वह जोधपुर से बहुत बड़े अंतर से जीतेगा क्योंकि हमारे छह विधायकों को इस लोकसभा सीट से जीत हासिल हुई थी। हमारा चुनाव प्रचार भी बढ़िया था। इसलिए मुझे लगता है कि उन्हें इस सीट की जिम्मेदारी लेनी चाहिए। यह पता लगाया जाना चाहिए कि हम यहां क्यों हारे।’

जब गहलोत से पूछा गया कि क्या उन्हें सच में लगता है कि जोधपुर में मिली हार के लिए पायलट जिम्मेदार हैं तो उन्होंने कहा, ‘पायलट ने कहा था कि हम जोधपुर जीतने वाले हैं और उन्होंने वैभव के लिए पार्टी का टिकट लिया। लेकिन हम सभी 25 सीटें हार गए। यदि कोई कहता है कि मुख्यमंत्री और प्रदेश कांग्रेस कमिटी को जिम्मेदारी लेना चाहिए तो मुझे लगता है कि यह सामूहिक जिम्मेदारी है।’ गहलोत का यह बयान ऐसे समय पर आया है जब कुछ दिनों पहले ही पायलट के समर्थकों ने कहा था कि मुख्यमंत्री के काम करने के रवैये के कारण हमें राज्य में हार मिली है।





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here